चीन खुद उठा रहा है 370 का मामला- उमर अब्दुल्ला

चीन खुद उठा रहा है 370 का मामला- उमर अब्दुल्ला

नेशनल कॉनफेरेन्स के अध्यक्ष और श्रीनगर से लोकसभा संसद डा. फारुख अब्दुल्ला ने कहा अनुछेद 370 को चीन से जोड़ने वाले बयान मचे बवाल पर न्र एक इंटरव्यू के दौरान सफाई दी है|

उन्होंने कहा- अनुछेद 370 का मामला चीन खुद उठा रहा है। इसमें फारूक अब्दुल्ला को बोलने की जरूरत ही नहीं है|

नेशनल कांफ्रेस ने बयान जारी कर कहा कि फारूक अब्दुल्ला ने कभी नहीं कहा कि अनुच्छेद 370 को चीन की मदद से बहाल किया जाएगा| नेशनल कांफ्रेंस ने आरोप लगया कि भाजपा फारूक अब्दुल्ला के बयान को तोड़-मरोड के पेश कर रही है|

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम और नेशनल कांफ्रेंस नेता फारूक अब्दुल्ला ने रविवार को कहा था कि पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव अनुच्छेद 370 हटाने का नतीजा है|

चीन शुरू से इसका विरोध करता रहा है और सीमा पर उसका आक्रामक रुख मोदी सरकार के इस गलत कदम के कारण है|

फारूक अपने बयान को गलत तरीके से पेश किए जाने को लेकर गुस्से में हैं। इस बारे में उनका कहना है- उनको तो कोई चीज सही नहीं दिखती| ये लोग मुल्क में बर्बादी करना चाहते हैं|

हर तरफ से, गलत चीजें लाना चाहते हैं| अब्दुल्ला के बयान पर राजनीतिक बवाल हो रहा है| बीजेपी इस बयान पर कटाक्ष कर रही है| उनके बयान को देश विरोधी बताया गया है| जम्मू-कश्मीर बीजेपी अध्यक्ष रविंद्र रैना का कहना है कि फारूक अनुछेद 370 पर मुंगेरी लाल जैसे सपने देख रहे हैं|

इससे पहले अब्दुल्ला ने एक कार्यक्रम में कहा था कि मैंने कभी चीनी राष्ट्रपति को निमंत्रण नहीं दिया, ऐसा करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थे| उन्होंने सिर्फ न्योता ही नहीं भेजा, बल्कि यहां झूले पर भी बैठाया|

उन्हें चेन्नई ले गए और उनके साथ खाना खाया| लेकिन जो 5 अगस्त 2019 को जो सरकार ने किया, वह किसी सूरत में स्वीकार नहीं किया जा सकता| हम नहीं करते, चीन भी नहीं कर रहा|

अब्दुल्ला ने कहा था कि घाटी के लोगों की हालत के बारे में हमें संसद में बोलने तक नहीं दिया जाता| यहां के लोगों को क्या सुख है? देश जहां 4जी इस्तेमाल कर रहा, 5जी आने वाला है फिर भी वहां के लोग 2जी के इस्तेमाल को मजबूर हैं। यह कैसा बराबरी का दर्जा है? ऐसे कैसे युवा आगे बढ़ेंगे?

आपकों बता दें पिछले साल जम्मू-कश्मीर से अनुछेद 370 और 35ए हटाई गई थी। उसके बाद फारूक अब्दुल्ला, उनके बेटे और पूर्व मुख्यमंत्री उमर और पीडीपी चीफ मेहबूबा मुफ्ती सहित कई बड़े नेता कई महीनों नजरबंद रहे|

फारूक और उमर अब्दुल्ला तो रिहा हो चुके हैं| लेकिन, मेहबूबा अब भी नजरबंद हैं| फारूक कहते हैं- जहां तक 370 का मामला है, इसे चीन खुद उठा रहा है| फारूक अब्दुल्ला को कहने की ज़रूरत ही नहीं है| मुझे क्या कहना है इस बारे में, मैं इस मामले में कहीं नहीं हूं|

news source- DelhiNewsPaper

Also Read: Riya’s Lawyer Raises Questions On Transfer Sushant Case To CBI

About The Author

Leave a reply

Your email address will not be published.